India में फेल रहा हे आँखों का नया रोग, संपर्क में आते ही लगता हे चेप, यहां देखे लक्षण और इलाज

आर्कटुरस(Arcturus) नामक एक Ankho ka rog जो COVID-19 के एक नया variant माना जा रहा है, जो भारत पहुंच चुका है और बेहद खतरनाक माना जा रहा है। आर्कटुरस वैरिएंट को ओमिक्रॉन के उप-वेरिएंट में से एक माना जाता है, 600 से अधिक ऐसे उप-वेरिएंट की पहचान की गई है। इसे अत्यधिक संक्रामक माना जाता है, जो क्रैकन वैरिएंट (XBB.1.5) से लगभग 1.2 गुना अधिक संक्रामक है।

आर्कटुरस(Ankho ka rog) क्या है?

आर्कटुरस variant, जिसे Omicron subvariant XBB.1.16 के रूप में भी जाना जाता है जो की आँखों का नया रोग है, पहली बार जनवरी में पाया गया था और संयुक्त राज्य अमेरिका, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया और भारत के कई राज्यों सहित विभिन्न देशों में पाया गया है। पिछले महीने के भीतर भारत में इस वैरिएंट से संबंधित संक्रमण के मामलों में 13 गुना की उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) आर्कटुरस variant की बारीकी से निगरानी कर रहा है, और कुछ अधिकारी इसके संभावित प्रभाव के बारे में चिंता व्यक्त करते हैं।

WHO की कोविड तकनीकी प्रमुख मारिया वान केरखोव के अनुसार, XBB.1.16 वैरिएंट में स्पाइक प्रोटीन में एक अतिरिक्त उत्परिवर्तन है, जो इसकी संक्रामकता और रोग पैदा करने की क्षमता को बढ़ा सकता है। इसे फिलहाल अब तक का सबसे तेजी से फैलने वाला वेरिएंट माना जाता है और वैज्ञानिकों का मानना है कि यह कोरोना वायरस के अन्य ज्ञात वेरिएंट की तुलना में अधिक घातक हो सकता है।

आर्कटुरस के लक्षण:

  • आँखों का नया रोग आर्कटुरस वेरिएंट से जुड़े लक्षण अन्य ओमीक्रॉन वेरिएंट से थोड़े अलग हैं।
  • बच्चों में तेज बुखार, खांसी, आंखों में खुजली, चिपचिपी आंखें और नेत्रश्लेष्मलाशोथ जैसे नए लक्षण अनुभव हो सकते हैं।
  • अन्य सामान्य लक्षणों में सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, थकान, गले में खराश, नाक बहना और खांसी शामिल हैं, जो पुराने सीओवीआईडी-19 लक्षणों के समान हैं।

आर्कटुरस से बचने के तरीके:

आर्कटुरस variant के प्रसार को रोकने के लिए, लक्षण दिखाने वाले व्यक्तियों को खुद को अलग करना चाहिए और सीओवीआईडी ​​-19 का परीक्षण करवाना चाहिए। फ्लू और कोविड-19 लक्षणों के बीच अंतर करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि वे समान हो सकते हैं। कोई भी दवा लेने से पहले चिकित्सीय सलाह लेने की सलाह दी जाती है। इसके अतिरिक्त, संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए मास्क पहनना, सामाजिक दूरी का पालन करना, बार-बार हाथ धोना, टीका लगवाना और भीड़-भाड़ वाली जगहों से बचना जैसे निवारक उपायों का पालन करना आवश्यक है।

तो दोस्तों यह था वह आँखों का नया रोग आर्कटुरस जिनके बारे में आपको बताना जरुरी था, कृपया इस लेख को न्य लोगो तक भी पहुचाये जिससे वे भी इस आँखों का नए रोग से अवगत हो सके.

इसे भी पढ़े:

Yoga for Hair growth
How to Darken hair Naturally
Weight loss tips
जड़ से बाल हटाने के उपाय

Leave a Comment