Good News: अब गुजरात में नहीं होगा Biparjoy cyclone, चक्रवात के Deep depression में होने से खतरा टला

दोस्तों हाल ही के दिनो में देश में कैसे Biparjoy cyclone का कहर मचा हुआ था, उससे हम सभी वाकिफ है. लेकिन अब हम और आपके सबके लिए एक अच्छी खबर आयी है की अब उस चक्रवात यानि Biparjoy cyclone में deep depression आने से इस बिपरजॉय का खतरा कम हुआ है! आइये इस बारे में विस्तार से जानते है.

गुजरात के लोगों के लिए एक अच्छी खबर है। मालूम हो कि मौसम विभाग ने कहा है कि तूफान आज शाम दक्षिण राजस्थान में डिप्रेशन का रूप ले लेगा. जिससे गुजरात से आने वाले तूफान Biparjoy cyclone का असर कम होगा। चक्रवात बाइपोरजॉय बीती रात गहरे दबाव में बदल गया। जिससे अब गुजरात में इसका असर धीरे-धीरे कम होता जा रहा है।

प्रदेश में बाइपोरॉय तूफान और बारिश को लेकर मौसम विभाग के वैज्ञानिक विजिनलाल ने बड़ा बयान दिया है। विजिनलाल ने कहा है कि “बीती रात चक्रवात बाइपोरजॉय के गहरे दबाव में बदलने के बाद अब चक्रवात आज शाम दक्षिण राजस्थान में एक दबाव बन जाएगा. इसके साथ ही साबरकांठा और बनासकांठा में भी तेज बारिश होगी। जिसके चलते मछुआरों को समुद्र को न जोतने की हिदायत दी गई है। एलसीएस 3 सिग्नल तटीय क्षेत्र में बनाए रखा जाता है।”

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, उत्तर गुजरात में भारी बारिश होगी। इसके साथ ही सौराष्ट्र और कच्छ में भी दो दिन बारिश होगी। अहमदाबाद गांधीनगर सहित मध्य गुजरात में सामान्य बारिश होगी। मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती Biparjoy cyclone राजस्थान की ओर बढ़ गया है। जिससे प्रदेश में अभी भी 24 घंटे बारिश का मौसम बना रहेगा। जिसमें छिटपुट बौछारें और तेज बारिश होगी।

अंबालाल पटेल ने भी Biparjoy cyclone की भविष्यवाणी की है

प्रदेश में बारिश को लेकर मौसम विशेषज्ञ अंबालाल पटेल की बड़ी भविष्यवाणी सामने आई है। मालूम हो कि मौसम विभाग ने आज राज्य के कई इलाकों में बारिश की संभावना जताई है. इस बीच मौसम विशेषज्ञ अंबालाल पटेल ने भी गुजरात में बारिश की संभावना जताई है.

अंबालाल पटेल ने 27 से 30 जून तक दक्षिण गुजरात में भारी बारिश की संभावना जताई है. अंबालाल पटेल ने कहा कि इस मानसून में पानी की समस्या का समाधान हो जाएगा। इसके साथ ही बनासकांठा के विभिन्न हिस्सों में बारिश होगी। इसके साथ ही मुंबई समेत महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में भारी बारिश की संभावना जताई गई है.

आखिर यह Deep depression क्या होता है?

डीप डिप्रेशन एक प्रकार का उष्णकटिबंधीय चक्रवात है जिसमें 28 और 33 समुद्री मील (52 और 61 किमी / घंटा) के बीच अधिकतम निरंतर सतही हवाएँ होती हैं। Deep depression उष्णकटिबंधीय चक्रवात का सबसे कमजोर प्रकार हैं, और उन्हें अक्सर “अवसाद” या “कम दबाव वाले क्षेत्रों” के रूप में जाना जाता है।

गहरे गर्त किसी भी महासागर के ऊपर बन सकते हैं, लेकिन वे उष्ण कटिबंध में सबसे आम हैं। वे उष्णकटिबंधीय तरंगों से विकसित हो सकते हैं, जो एक बड़ा खतरा हैं जो अफ्रीका से अटलांटिक महासागर के पार चलती हैं। मानसून ट्रफ से गहरे अवसाद भी विकसित हो सकते हैं, जो कम दबाव वाले क्षेत्र होते हैं जो मानसून के मौसम के दौरान जमीन पर बनते हैं।

विशेष रूप से तटीय क्षेत्रों में गहरे गड्ढों से काफी नुकसान हो सकता है। वे भारी बारिश, तेज़ हवाएँ और तूफ़ान ला सकते हैं। कुछ मामलों में, Deep depression अधिक शक्तिशाली उष्णकटिबंधीय चक्रवातों में भी विकसित हो सकते हैं, जैसे तूफान या टाइफून।

इसे भी पढ़े:

Intel Processors New Names
Asia Cup 2023
ONDC 18 जून से खाने के ऑर्डर पर दे रहा 50% से भी ज्यादा की छूट
Adipurush Controversy

तो दोस्तों हमने आपको बता दिया है की कैसे अब गुजरात से Biparjoy cyclone का खतरा एकदम कम हो चूका है. कृपया यह अच्छी खबर ज्यादा से ज्यादा लोगो तक शेयर करे ताकि यह डर का माहौल खत्म हो सके लोगो में! लेख पढ़ने के लिए आभार।

Leave a Comment