Diwali kab hai : जानें तिथि, शुभ मुहूर्त और लक्ष्मी-गणेश पूजन विधि

पुरे भारतवर्ष में दिवाली की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. 2022 की दिवाली खास है | इस बार अक्टूबर मास में दिवाली कब (Diwali kab hai) है और पूजा का मुहूर्त क्या है? सभी लोग इस बारे में जानना चाहते हैं | इसी लिए आज के इस लेख में हम इन सभी बात की जानकारी देंगे | तो चलिए जानते हैं साल 2022 दिवाली की तिथि शुभ मुहूर्त कब है और पूजन विधि क्या है |

diwali kab hai 2022 – When is Diwali 2022?

साल 2022 की  दिवाली 24 अक्टूबर 2022, सोमवार को है | और हिंदू पंचांग के मुताबिक कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या के दिन दिवाली का पर्व मनाया जाता है |

पूरे भारतवर्ष में सबसे बड़े पर्व दीवाली का अलग ही हर्ष और उल्लास देखने को मिलता है। इस दिन को पूरा भारत देश दीये को रोशनी से जगमगा उठता है। दिवाली के पर्व को हिंदू धर्म में सुख-समृद्धि प्रदान करने वाला त्योहार माना जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार इस दिन मां लक्ष्मी अपने भक्तों के घर पर पधारती हैं और उन्हें धन-धान्य का आशीर्वाद भी प्रदान करती हैं।

Diwali kyu manaya jata hai?

दिवाली के इस अवसर पर कहा जाता है कि इस दिन ही प्रभु श्रीराम लंकापति रावण पर विजय प्राप्त करके अयोध्या लौटे थे। और 14 वर्ष का वनवास पूरा कर भगवान श्री राम के अयोध्या लौटने की खुशी में अयोध्या के लोगों ने पूरे अयोध्या को दीयों को रोशनी से सजा दिया था। तभी से पूरे भारत देश में दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है। दीपावली में सभी लोग दीपक जलाकर खुशियां मनाते हैं।

Importance of diwali – 2022 mein diwali kab hai

दिवाली के इस त्योहार पर सभी लोग एक दूसरे के घर जाते हैं और मिठाई बांटते हैं। इस पर्व के दिन मुख्य रूप से लक्ष्मी गणेश का पूजन किया जाता है.ऐसा खा जाता हे की इस दिन मां लक्ष्मी सबके घर आशीर्वाद देने आती है. पौराणिक मान्यता के अनुसार इस पर्व पर शुभ मुहूर्त के अनुसार लक्ष्मी जी का पूजन विधिपूर्वक करने से सारी मनोकामनाएं पूरी होती है और सुख-समृद्धि, धन संपदा, ऐश्वर्य वैभव का आशीर्वाद देती है।

दिवाली का पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान श्री राम लंकापति रावण पर विजय प्राप्त किया और 14 साल का वनवास पूरा कर अयोध्या वापस लौटे थे | जब भगवान राम, लक्ष्मण और माता सीता अयोध्या वपर लौटेथे तब उनके स्वागत में लोगों ने हर घर दीप जलाया था। जैन धर्म में दिवाली के इस पर्व को भगवान महावीर के मोक्ष दिवस के रूप में मनाया जाता है और हिंदू धर्म के अलावा बौद्ध, सिख धर्म के अनुयायी भी दिवाली का पर्व मनाते हैं.

Diwali 2022 kab hai muhurat

  1. अमावस्या तिथि – 24 अक्टूबर को 06:03 बजे से 24 अक्टूबर 2022 को 02:44 बजे
  2. निशिता काल – 24 अक्टूबर को 23:39 से 00:31
  3. सिंह लग्न – 24 अक्टूबर को 00:39 से 02:56

What are the 5 days of Diwali in order?

  • Dhanteras (Day 1)
  • Kali Chaudas (Day 2)
  • Diwali – Lakshmi Pujan (Day 3)
  • New year – Govardhan Puja (Day 4)
  • Bhai Duj (Day 5)

Also read : –

सबसे पहले अपने परिवार और मित्रो को दिवाली शुभेच्छा भेजे :- Click here

laxmi pujan diwali 2022

  • प्रदोष काल :17:43:11 से 20:16:07 तक
  • वृषभ काल :18:54:52 से 20:50:43 तक

चौघड़िया मुहूर्त – Panchang 24 October 2022

  • प्रातःकाल मुहूर्त्त (शुभ):06:34:53 से 07:57:17 तक
  • प्रातःकाल मुहूर्त्त (चल, लाभ, अमृत):10:42:06 से 14:49:20 तक
  • सायंकाल मुहूर्त्त (शुभ, अमृत, चल):16:11:45 से 20:49:31 तक
  • रात्रि मुहूर्त्त (लाभ):24:04:53 से 25:42:34 तक

2022 me diwali kab hai कैलेंडर – Diwali 2022 Calendar

  • 23 अक्टूबर, 2022 रविवार- धनतेरस
  • 24 अक्टूबर, 2022 सोमवार- नरक चतुर्दशी, लक्ष्मी पूजन
  • 25 अक्टूबर, 2022 मंगलवार- गोवर्धन पूजा
  • 26 अक्टूबर, 2022 बुधवार- भाई दूज

दीपावली पूजा का शुभ मुहूर्त – diwali kab ki hai

  1. प्रदोष व्रत पूजा- 24 अक्टूबर को शाम 5 बजकर 50 मिनट से रात 8.22 मिनट तक
  2. लक्ष्मी पूजा मुहूर्त- 24 अक्टूबर को शाम 06 बजकर 53 मिनट से रात 08.16 मिनट तक

[WPSM_AC id=8214676844668]

Conclusion

हमने आज इस लेख के माध्यम से दिवाली के पर्व की जानकारी को आपको प्रदान किया हे | हमने इस जानकारी को इंटरनेट के माध्यम से अलग अलग जगह से एकत्रित किया हे | हमारा मुख्य उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, कोई पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही ध्यान में लें। अगर इस जानकारी के बारे में कोई सवाल या अनुरोध हे तो आप हमे कमेंट बॉक्स के माध्यम से बता सकते हे |

Rate this post

Leave a Comment