Train Chain pulling fine: इस ट्रेन की चेन बिना वजह कभी मत खींचना, वरना हो सकती हे जेल, भरना पड़ेगा जुरमाना

नमस्कार दोस्तों, इस लेख में आप Train Chain pulling fine के बारे में विस्तार से जानेंगे की आखिर हमें किस समय ट्रैन की पुल्लिंग चैन नहीं खींचनी और ऐसा करने पर हमें कितना Train Chain pulling fine लग सकता है, तथा किन किन परिस्थितिओ में ट्रैन की चैन आप खिंच सकते है आइये जाने इसके बारे में!

भारतीय रेलवे ने यात्री सुरक्षा और सुविधा को प्राथमिकता देते हुए हर कोच में एक आपातकालीन अलार्म चैन स्थापित की है। ये अलार्म चैन आपात स्थिति के दौरान उपयोग के लिए बनाई गई हैं, जिससे यात्रियों को आवश्यकता पड़ने पर ट्रेन रोकने की अनुमति मिलती है। दुर्भाग्य से, कुछ यात्री ट्रेन के चलते समय अनावश्यक रूप से अलार्म चैन खींचकर इस सुविधा का दुरुपयोग करते हैं।

भारतीय रेलवे ऐसे व्यक्तियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करता है, क्योंकि उनके कार्यों से ट्रेन की सामान्य कार्यप्रणाली बाधित होती है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जो लोग इस व्यवहार में शामिल हैं उन्हें प्रासंगिक कानून के तहत जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

चैन खींचने से कैसे रुक जाती है ट्रेन

यह समझने के लिए कि चेन खींचने से ट्रेन कैसे रुकती है, यह ध्यान देने योग्य है कि चेन ट्रेन के मुख्य ब्रेक पाइप से जुड़ी होती है। यह कनेक्शन पाइपों के भीतर हवा का दबाव बनाता है। जब चेन खींची जाती है, तो हवा निकलती है, जिससे हवा का दबाव कम हो जाता है। नतीजतन, ट्रेन की गति कम हो जाती है और ट्रेन ऑपरेटर तीन बार हॉर्न बजाकर ट्रेन को रोक देता है। यदि सर्दी के कोहरे के कारण कोई उड़ान रद्द हो जाती है, तो आप इन चरणों का पालन करके रिफंड प्राप्त कर सकते हैं।

ट्रैन के किस डिब्बे से चेन पुलिंग हुई है कैसे पता चलता है

आपको आश्चर्य हो सकता है कि रेलवे अधिकारी यह कैसे निर्धारित करते हैं कि किस कोच की अलार्म चेन खींची गई है। ट्रेन के डिब्बों में, उस स्थान को इंगित करने के लिए आपातकालीन फ्लैशर लगाए जाते हैं जहां से चेन सक्रिय की गई है। यदि फ्लैशर्स मौजूद नहीं हैं, तो ट्रेन गार्ड को डिब्बों का भौतिक निरीक्षण करना चाहिए ताकि यह पता लगाया जा सके कि चेन कहां खींची गई है। ऐसे मामलों में, रेलवे पुलिस अलार्म चेन का दुरुपयोग करने वाले व्यक्तियों को पकड़ती है।

Train Chain pulling fine: बेवजह चेन खींचने पर क्या जुर्माना लगेगा?

अनावश्यक रूप से चेन खींचना रेलवे नियमों का उल्लंघन माना जाता है और कानूनी अपराध माना जाता है। रेलवे अधिनियम की धारा 141 निर्दिष्ट करती है कि बिना किसी वैध कारण के अलार्म चेन का उपयोग करने पर ₹1000 रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है जो Train Chain pulling fine कहलाता है या फिर एक वर्ष तक की कैद हो सकती है।

ऐसे वाकया हो तभी चेन खींचने की अनुमति है:

कुछ मामलो में ट्रैन की चैन खींचने से क्या Train Chain pulling fine लगता है यह तो जान लिया, आइये अब यह भी बतादे की किन किन हालातो में आप ट्रैन की चैन pull कर सकते है:

1. जब 60 वर्ष से अधिक उम्र का कोई यात्री या बच्चा ट्रेन के चलते समय छूट जाए।
2. ट्रेन में आग लगने की स्थिति में.
3. जब किसी बुजुर्ग या विकलांग व्यक्ति को ट्रेन में चढ़ने के लिए अधिक समय की आवश्यकता हो और ट्रेन समय से पहले चलने लगे।
4. यदि किसी को कोच के भीतर अचानक स्वास्थ्य आपातकाल, जैसे स्ट्रोक या दिल का दौरा, का अनुभव होता है।
5. ट्रेन में चोरी या डकैती की स्थिति में भी चैन खींचना आवश्यक है.

इसे भी पढ़े:

Eshram Card ka paisa
Bijli Bill New Tariff Plan
Adhar pan notification
UDAI New update

Leave a Comment